Browsing Category: Chalisa Sangrah

  • All Post
  • Aarti Sangrah
  • Chalisa Sangrah
  • Gyan Ki Baaten
  • Kavach Sangrah
  • Shabar Mantra
  • Strotra Sangrah
  • देवी देवताओं के 108 नाम
Shri Shani Chalisa

॥ श्री शनि चालीसा ॥ ॥ Shri Shani Chalisa ॥ ॥ दोहा ॥ जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल। दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥ जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज। करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥ ॥ चौपाई ॥ जयति जयति शनिदेव दयाला। करत सदा भक्तन प्रतिपाला॥ चारि भुजा, तनु श्याम विराजै। माथे रतन मुकुट छवि छाजै॥ परम विशाल मनोहर भाला। टेढ़ी दृष्टि…

Shri Surya Chalisa

॥ श्री सूर्य चालीसा ॥ ॥ Shri Surya Chalisa ॥ ॥ दोहा ॥ कनक बदन कुण्डल मकर, मुक्ता माला अङ्ग। पद्मासन स्थित ध्याइए, शंख चक्र के सङ्ग॥ ॥ चौपाई ॥ जय सविता जय जयति दिवाकर!। सहस्रांशु! सप्ताश्व तिमिरहर॥ भानु! पतंग! मरीची! भास्कर!। सविता हंस! सुनूर विभाकर॥ विवस्वान! आदित्य! विकर्तन। मार्तण्ड हरिरूप विरोचन॥ अम्बरमणि! खग! रवि कहलाते। वेद हिरण्यगर्भ कह गाते॥ सहस्रांशु प्रद्योतन, कहिकहि। मुनिगन होत प्रसन्न मोदलहि॥ अरुण सदृश सारथी मनोहर। हांकत…

Shri Sai Chalisa

॥ श्री साईं चालीसा ॥ ॥ Shri Sai Chalisa ॥ ॥ चौपाई ॥ पहले साई के चरणों में, अपना शीश नमाऊं मैं। कैसे शिरडी साई आए, सारा हाल सुनाऊं मैं॥ कौन है माता, पिता कौन है, ये न किसी ने भी जाना। कहां जन्म साई ने धारा, प्रश्न पहेली रहा बना॥ कोई कहे अयोध्या के, ये रामचंद्र भगवान हैं। कोई कहता साई बाबा, पवन पुत्र हनुमान हैं॥ कोई कहता मंगल मूर्ति, श्री…

Shri Bhairava Chalisa

॥ श्री भैरव चालीसा ॥ – ॥ Shri Bhairava Chalisa ॥ ॥ दोहा ॥ श्री गणपति गुरु गौरि पद प्रेम सहित धरि माथ । चालीसा वन्दन करौं श्री शिव भैरवनाथ ॥ श्री भैरव संकट हरण मंगल करण कृपाल । श्याम वरण विकराल वपु लोचन लाल विशाल ॥ ॥ चौपाई ॥ जय जय श्री काली के लाला । जयति जयति काशी-कुतवाला ॥ जयति बटुक-भैरव भय हारी । जयति काल-भैरव बलकारी ॥ जयति नाथ-भैरव…

Shri Hanuman Chalisa

॥ श्री हनुमान चालीसा ॥ ॥ Shri Hanuman Chalisa ॥ ॥ दोहा ॥ श्री गुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुर सुधारि। बरनउं रघुबर विमल जसु, जो दायकु फल चारि॥ बुद्धिहीन तनु जानिकै, सुमिरौं पवन-कुमार। बल बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकार॥ ॥ चौपाई ॥ जय हनुमान ज्ञान गुण सागर। जय कपीस तिहुँ लोक उजागर॥ राम दूत अतुलित बल धामा। अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा॥ महावीर विक्रम बजरंगी। कुमति निवार सुमति के संगी॥…

Shri Lalita Mata Chalisa

॥ श्री ललिता माता चालीसा ॥ – ॥ Shri Lalita Mata Chalisa ॥ ॥ चौपाई ॥ जयति जयति जय ललिते माता। तव गुण महिमा है विख्याता॥ तू सुन्दरी, त्रिपुरेश्वरी देवी। सुर नर मुनि तेरे पद सेवी॥ तू कल्याणी कष्ट निवारिणी। तू सुख दायिनी, विपदा हारिणी॥ मोह विनाशिनी दैत्य नाशिनी। भक्त भाविनी ज्योति प्रकाशिनी॥ आदि शक्ति श्री विद्या रूपा। चक्र स्वामिनी देह अनूपा॥ ह्रदय निवासिनी-भक्त तारिणी। नाना कष्ट विपति दल हारिणी॥ दश विद्या…

Shri Tulsi Chalisa

॥ श्री तुलसी चालीसा ॥ ॥ Shri Tulsi Chalisa ॥ ॥ दोहा ॥ जय जय तुलसी भगवती सत्यवती सुखदानी। नमो नमो हरि प्रेयसी श्री वृन्दा गुन खानी॥ श्री हरि शीश बिरजिनी, देहु अमर वर अम्ब। जनहित हे वृन्दावनी अब न करहु विलम्ब॥ ॥ चौपाई ॥ धन्य धन्य श्री तलसी माता। महिमा अगम सदा श्रुति गाता॥ हरि के प्राणहु से तुम प्यारी। हरीहीँ हेतु कीन्हो तप भारी॥ जब प्रसन्न है दर्शन दीन्ह्यो। तब…

Shri Sheetla Chalisa

॥ श्री शीतला चालीसा ॥ ॥ Shri Sheetla Chalisa ॥ ॥ दोहा ॥ जय-जय माता शीतला, तुमहिं धरै जो ध्यान। होय विमल शीतल हृदय, विकसै बुद्धि बलज्ञान॥ ॥ चौपाई ॥ जय-जय-जय शीतला भवानी। जय जग जननि सकल गुणखानी॥ गृह-गृह शक्ति तुम्हारी राजित। पूरण शरदचन्द्र समसाजित॥ विस्फोटक से जलत शरीरा। शीतल करत हरत सब पीरा॥ मातु शीतला तव शुभनामा। सबके गाढ़े आवहिं कामा॥ शोकहरी शंकरी भवानी। बाल-प्राणरक्षी सुख दानी॥ शुचि मार्जनी कलश करराजै।…

Shri Santoshi Mata Chalisa

॥ श्री सन्तोषी माता चालीसा ॥ ॥ Shri Santoshi Mata Chalisa ॥ ॥ दोहा ॥ बन्दौं सन्तोषी चरण रिद्धि-सिद्धि दातार । ध्यान धरत ही होत नर दुःख सागर से पार ॥ भक्तन को सन्तोष दे सन्तोषी तव नाम । कृपा करहु जगदम्ब अब आया तेरे धाम ॥ ॥ चौपाई ॥ जय सन्तोषी मात अनूपम । शान्ति दायिनी रूप मनोरम ॥ सुन्दर वरण चतुर्भुज रूपा । वेश मनोहर ललित अनुपा ॥ श्वेताम्बर रूप…

Shri Radha Chalisa

॥ श्री राधा चालीसा ॥ ॥ Shri Radha Chalisa ॥ ॥ दोहा ॥ श्री राधे वुषभानुजा , भक्तनि प्राणाधार । वृन्दाविपिन विहारिणी , प्रानावौ बारम्बार ॥ जैसो तैसो रावरौ, कृष्ण प्रिय सुखधाम । चरण शरण निज दीजिये सुन्दर सुखद ललाम ॥ ॥ चौपाई ॥ जय वृषभानु कुँवरी श्री श्यामा, कीरति नंदिनी शोभा धामा ॥ नित्य बिहारिनी रस विस्तारिणी, अमित मोद मंगल दातारा ॥१॥ राम विलासिनी रस विस्तारिणी, सहचरी सुभग यूथ मन भावनी…

Previous Page
123

Popular Posts

Newsletter

JOIN THE FAMILY!

You have been successfully Subscribed! Please Connect to Mailchimp first

Featured Posts

Categories

Tags

Edit Template

© 2024 SanatanDharam.co.in