Browsing Category: Aarti Sangrah

  • All Post
  • Aarti Sangrah
  • Chalisa Sangrah
  • Gyan Ki Baaten
  • Kavach Sangrah
  • Shabar Mantra
  • Strotra Sangrah
  • देवी देवताओं के 108 नाम
Aarti Shri Guru Gorakh Nath Ji Ki

॥ आरती श्री गुरु गोरख नाथ जी की ॥ ॥ Aarti Shri Guru Gorakh Nath Ji Ki ॥ जय गोरख देवा जय गोरख देवा । कर कृपा मम ऊपर नित्य करूँ सेवा । शीश जटा अति सुंदर भाल चन्द्र सोहे । कानन कुंडल झलकत निरखत मन मोहे । गल सेली विच नाग सुशोभित तन भस्मी धारी । आदि पुरुष योगीश्वर संतन हितकारी । नाथ नरंजन आप ही घट घट के वासी ।…

Aarti Shri Baba Balak Nath Ji Ki

॥ आरती श्री बाबा बालक नाथ जी की ॥ ॥ Aarti Shri Baba Balak Nath Ji Ki ॥ ॐ जय कलाधारी हरे, स्वामी जय पौणाहारी हरे, भक्त जनों की नैया, दस जनों की नैया भव से पार करे, ॐ जय कलाधारी हरे… बालक उमर सुहानी, नाम बालक नाथा, अमर हुए शंकर से, सुन के अमर गाथा । ॐ जय कलाधारी हरे… शीश पे बाल सुनैहरी, गले रुद्राक्षी माला, हाथ में झोली चिमटा,…

Aarti Ekadashi Ki

॥ आरती एकादशी की ॥ ॥ Aarti Ekadashi Ki ॥ ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता । विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता ॥ ॐ॥ १ तेरे नाम गिनाऊं देवी, भक्ति प्रदान करनी । गण गौरव की देनी माता, शास्त्रों में वरनी ॥ॐ॥ २ मार्गशीर्ष के कृष्णपक्ष की उत्पन्ना, विश्वतारनी जन्मी। शुक्ल पक्ष में हुई मोक्षदा, मुक्तिदाता बन आई॥ ॐ॥ ३ पौष के कृष्णपक्ष की, सफला नामक…

Aarti Bhagwan Shri Dhanwantri Ji Ki

॥ आरती भगवान श्री धन्वंतरि जी की ॥ ॥ Aarti Bhagwan Shri Dhanwantri Ji Ki ॥ जय धन्वंतरि देवा, जय धन्वंतरि जी देवा। जरा-रोग से पीड़ित, जन-जन सुख देवा।।जय धन्वं.॥ १ ॥ तुम समुद्र से निकले, अमृत कलश लिए। देवासुर के संकट आकर दूर किए।।जय धन्वं.॥ २ ॥ आयुर्वेद बनाया, जग में फैलाया। सदा स्वस्थ रहने का, साधन बतलाया।।जय धन्वं.॥ ३ ॥ भुजा चार अति सुंदर, शंख सुधा धारी। आयुर्वेद वनस्पति से…

Aarti Bhagwan Mahavir Ki

॥ आरती भगवान महावीर की ॥ ॥ Aarti Bhagwan Mahavir Ki ॥ जय महावीर प्रभो, स्वामी जय महावीर प्रभो। कुंडलपुर अवतारी, त्रिशलानंद विभो॥ ॥ ॐ जय…..॥ १ ॥ सिद्धारथ घर जन्मे, वैभव था भारी, स्वामी वैभव था भारी। बाल ब्रह्मचारी व्रत पाल्यौ तपधारी ॥ ॐ जय…..॥ २ ॥ आतम ज्ञान विरागी, सम दृष्टि धारी। माया मोह विनाशक, ज्ञान ज्योति जारी ॥ ॐ जय…..॥ ३ ॥ जग में पाठ अहिंसा, आपहि विस्तार्यो। हिंसा…

Aarti Shri Chitragupta Maharaj Ki

॥ आरती श्री चित्रगुप्त महाराज की ॥ ॥ Aarti Shri Chitragupta Maharaj Ki ॥ श्री विरंचि कुलभूषण, यमपुर के धामी। पुण्य पाप के लेखक, चित्रगुप्त स्वामी॥ १ ॥ सीस मुकुट, कानों में कुण्डल अति सोहे। श्यामवर्ण शशि सा मुख, सबके मन मोहे॥ २ ॥ भाल तिलक से भूषित, लोचन सुविशाला। शंख सरीखी गरदन, गले में मणिमाला॥ ३ ॥ अर्ध शरीर जनेऊ, लंबी भुजा छाजै। कमल दवात हाथ में, पादुक परा भ्राजे॥ ४…

Aarti Shri Shyam Baba Ki

॥ आरती श्री श्यामबाबा की ॥ ॥ Aarti Shri Shyam Baba Ki ॥ ॐ जय श्री श्याम हरे , बाबा जय श्री श्याम हरे । खाटू धाम विराजत, अनुपम रुप धरे ॥ ॐ जय श्री श्याम हरे…… रत्न जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुले । तन केशरिया बागों, कुण्डल श्रवण पडे ॥ ॐ जय श्री श्याम हरे…… गल पुष्पों की माला, सिर पर मुकुट धरे। खेवत धूप अग्नि पर, दिपक ज्योती जले॥…

Aarti Shri Sai Baba Ki

॥ आरती श्री साईं बाबा की ॥ ॥ Aarti Shri Sai Baba Ki ॥ ॐ जय साईं हरे, बाबा शिरडी साईं हरे। भक्तजनों के कारण, उनके कष्ट निवारण॥ शिरडी में अव-तरे, ॐ जय साईं हरे। ॐ जय साईं हरे, बाबा शिरडी साईं हरे॥ दुखियन के सब कष्टन काजे, शिरडी में प्रभु आप विराजे। फूलों की गल माला राजे, कफनी, शैला सुन्दर साजे॥ कारज सब के करें, ॐ जय साईं हरे। ॐ जय…

Bhairava Ji Ki Aarti

॥ भैरव जी की आरती ॥ ॥ Bhairava Ji Ki Aarti ॥ जय भैरव देवा प्रभु जय भैरव देवा । जय काली और गौरा देवी कृत सेवा ॥ जय॥ तुम्ही पाप उद्धारक दुःख सिन्धु तारक । भक्तों के सुख कारक भीषण वपु धारक ॥ जय॥ वाहन श्वान विराजत कर त्रिशूल धारी । महिमा अमित तुम्हारी जय जय भयहारी ॥ जय॥ तुम बिन सेवा देवा सफल नहीं होवे । चौमुख दीपक दर्शन सबका…

Aarti Ahoi Mata Ki

॥ आरती अहोई माता की ॥ ॥ Aarti Ahoi Mata Ki ॥ ज़य अहोई माता ज़य अहोई माता। तुमको निसदिन ध्यावत हरि विष्णु धाता॥ १ ॥ ब्राहमणी रुद्राणी कमला तू हे है जग दाता। सूर्य चन्द्रमा ध्यावत नारद ऋषि गाता॥ २ ॥ माता रूप निरंजन सुख संपत्ती दाता। जो कोई तुमको ध्यावत नित मंगल पाता॥ ३ ॥ तू हे है पाताल बसंती तू हे है सुख दाता। कर्मा प्रभाव प्रकाशक जज्निदधि से…

Previous Page
1234

Popular Posts

Newsletter

JOIN THE FAMILY!

You have been successfully Subscribed! Please Connect to Mailchimp first

Featured Posts

Categories

Tags

Edit Template

© 2024 SanatanDharam.co.in